You are here
Home > Healthy Living > श्राद्ध में न करें ये गलती, नाराज हो सकते हैं पितृ

श्राद्ध में न करें ये गलती, नाराज हो सकते हैं पितृ

इस वर्ष पितृ पक्ष 6 सितंबर से शुरू हो रहे हैं जो अमावष्या तक यानी 15 दिन चलेंगे। हिन्दू धर्म में पितृ पक्ष को पितरों या पूर्वजों के दिन के रूप में माना जाता है। इन दिनों लोग अपने पूर्वजों को श्रद्धापूर्वक याद कर पूजा अर्चना करते हैं और पितरों के नाम पर दान करते हैं, भूखों को खाना खिलाते हैं। ऐसा करने के पीछे मान्यता है कि इन दिनों पितरों के नाम पर जो भी कुछ दान किया जाता है कि वह स्वर्गवासी हो चुके पूर्वजों की आत्मा को मिलता है।

श्राद्ध और पितृ पक्ष को लेकर और भी कई पौराणिक मान्यताएं हैं जिनका इन दिनों ध्यान रखने की सलाह दी जाती है। ये मान्यताएं खासकर उनलोगों पर लागू होती हैं जो श्राद्ध करते हैं।

श्राद्ध करने के लिए मनुस्मृति और ब्रह्मवैवर्त पुराण जैसे शास्त्रों में बताया गया है कि दिवंगत पितरों के परिवार में या तो ज्येष्ठ पुत्र या कनिष्ठ पुत्र और अगर पुत्र न हो तो धेवता (नाती), भतीजा, भांजा या शिष्य ही तिलांजलि और पिंडदान देने के पात्र होते हैं।

कई ऐसे पितर भी होते है जिनके पुत्र संतान नहीं होती है या फिर जो संतान हीन होते हैं। ऐसे पितरों के प्रति आदर पूर्वक अगर उनके भाई भतीजे, भांजे या अन्य चाचा ताउ के परिवार के पुरूष सदस्य पितृपक्ष में श्रद्धापूर्वक व्रत रखकर पिंडदान, अन्नदान और वस्त्रदान करके ब्राह्मणों से विधिपूर्वक श्राद्ध कराते है तो पितर की आत्मा को मोक्ष मिलता है।

श्राद्ध में न करें ये गलती, नाराज हो सकते हैं पितृ

दोपहर में ही करें श्राद्ध
पितरों के निमित्त सारी क्रियाएं गले में दाये कंधे मे जनेउ डाल कर और दक्षिण की ओर मुख करके की जाती है। मान्यता है कि श्राद्ध का समय हमेशा जब सूर्य की छाया पैरो पर पड़ने लग जाये अर्थात दोपहर के बाद ही शास्त्र सम्मत है। सुबह-सुबह अथवा 12 बजे से पहले किया गया श्राद्ध पितरों तक नहीं पहुंचता है।

सात्विक भोजन का ही लगाएं भोग
श्राद्ध के दिन लहसुन, प्याज रहित सात्विक भोजन ही घर की रसोई में बनना चाहिए। जिसमें उड़द की दाल, बडे, चावल, दूध, घी से बने पकवान, खीर, मौसमी सब्जी जैसे तोरई, लौकी, सीतफल, भिण्डी कच्चे केले की सब्जी ही भोजन में मान्य है। आलू, मूली, बैंगन, अरबी तथा जमीन के नीचे पैदा होने वाली सब्जियां पितरों को नहीं चढ़ती है।

Leave a Reply

Comment moderation is enabled. Your comment may take some time to appear.

Top
%d bloggers like this:

Fatal error: Uncaught exception 'wfWAFStorageFileException' with message 'Unable to verify temporary file contents for atomic writing.' in /home/kartavya/public_html/wp-content/plugins/wordfence/vendor/wordfence/wf-waf/src/lib/storage/file.php:46 Stack trace: #0 /home/kartavya/public_html/wp-content/plugins/wordfence/vendor/wordfence/wf-waf/src/lib/storage/file.php(567): wfWAFStorageFile::atomicFilePutContents('/home/kartavya/...', '<?php exit('Acc...') #1 [internal function]: wfWAFStorageFile->saveConfig() #2 {main} thrown in /home/kartavya/public_html/wp-content/plugins/wordfence/vendor/wordfence/wf-waf/src/lib/storage/file.php on line 46